2nd grade syllabus in hindi pdf | 2nd grade syllabus rajasthan | rpsc 2nd grade syllabus pdf | 2nd grade syllabus 2020 in hindi pdf | 2nd grade syllabus 2022 in hindi pdf | 2nd grade syllabus 2020 in hindi | 2nd grade syllabus maths | rpsc 2nd grade syllabus science 

RPSC 2nd Grade Maths Syllabus 2022 Pdf Download in Hindi

2nd grade syllabus in hindi pdf | 2nd grade syllabus rajasthan | rpsc 2nd grade syllabus pdf | 2nd grade syllabus 2020 in hindi pdf | 2nd grade syllabus 2022 in hindi pdf | 2nd grade syllabus 2020 in hindi | 2nd grade syllabus maths | rpsc 2nd grade syllabus science 


नमस्कार दोस्तों  onlinenotesstore.in  पर आपका स्वागत है। इस पोस्ट में हम RPSC 2nd Grade Maths Syllabus 2022 के बारे में चर्चा करने वाले है। Rajasthan Public Service Commission (RPSC) द्वारा आयोजित इस एग्जाम के 2nd grade Paper 2 syllabus in hindi pdf  नीचे दी गई है

RPSC 2nd Grade Maths Syllabus 2022: राजस्थान लोक सेवा आयोग (Rajasthan Public Service Commission – RPSC) 2nd Grade Senior Teacher (TSP & Non-TSP) की  वैकेंसी जारी करने की संभावना है। राजस्थान लोक सेवा आयोग (आरपीएससी) जल्द ही द्वितीय श्रेणी के वरिष्ठ शिक्षकों के 10000 रिक्त पदों को भरने जा रहा है। परीक्षा की तैयारी पर ध्यान केंद्रित करने से पहले उम्मीदवारों को पाठ्यक्रम के योगात्मक भाग के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए। आपकी परीक्षा को आसान बनाने के लिए  हमारे द्वारा RPSC 2nd Grade Teacher Syllabus 2022  को विस्तार से दिया है जिसे अप पीडीएफ फोर्मेट में डाउनलोड कर सकते है।

इस पोस्हट में हम RPSC 2nd Grade Maths Syllabus 2022 पीडीएफ साझा कर रहे हैं। जैसा कि हम जानते हैं कि RPSC 2nd Grade Teacher Exam दो पेपरों में आयोजित करेगा। पेपर- I – राजस्थान के भौगोलिक, ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और सामान्य ज्ञान, राजस्थान के करंट अफेयर्स, विश्व और भारत के सामान्य ज्ञान और शैक्षिक मनोविज्ञान के लिए आयोजित किया जाएगा। तथा पेपर- II – संबंधित विषय से संबंधित अर्थात आपके द्वारा चुने गए विषय का  होगा। आपकी तैयारी को मजबूत बनाने  परीक्षा को आसान बनाने के लिए हमने RPSC 2nd Grade Maths Syllabus 2022 के सभी विषय पाठ्यक्रम को शामिल किया है।

RPSC 2nd Grade Maths Syllabus 2022 Pdf Download in Hindi

पेपर द्वितीय
विषय- गणित

भाग स्तर अंक
प्रथम माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक स्तर 180 अंक
द्वितीय स्नातक लेवल 80 अंक
तृतीय शिक्षण विधियाँ 40 अंक

भाग – प्रथम
स्तर – माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक
अंक -180

1. संख्या पद्धति 1. अपरिमेय संख्या,
2. वास्तविक संख्याएं और उनका दशमलव प्रसार,
3. वास्तविक संख्या पर संक्रियाएं,
4. वास्तविक संख्या के लिए घातांक नियम,
5. अंकगणित की मूलभूत प्रमेय
2. समतल ज्यामिति 1. एक बिन्दु पर कोण और रेखाएं,
2. दो रेखाए पर तिर्यक रेखा द्वारा निर्मित कोण,
3. त्रिभुजों के प्रकार,
4. भुजाओं के आधार पर,
5. कोणों के आधार पर, त्रिभुजों की सर्वागसमता,
6. त्रिभुज असमानता,
7. त्रिभुजों की समरूपता,
8. वृत,
9. चाप एवं कोणों द्वारा निर्मित वृत पर आकृतियों का क्षेत्रफल,
10. वृत की स्पर्श रेखा
3. बीजगणित : दो चरो वाले रेखिक समीकरण,
एक चर वाला बहुपद,
बहुपद के शून्यक,
शेषफल प्रमेय,
बहुपदों के गुणनखंड,
बीज गणितीय सर्वसमिकाए,
गणितीय आगमन सिद्धान्त,
द्विपद प्रमेय,
द्विघात समीकरण तथा मूल (हल),
रेखीय असमिका,
परिमित और अनंत अनुक्रम,
समांतर श्रेणी,
गुणोत्तर श्रेणी,
हरात्मक श्रेणी,
क्रमचय,
संचय,
मैट्रिक्स,
दो और तीन क्रम की सारणिक,
प्रतिलोम मैट्रिक्स,
दो और तीन अज्ञात चरों वाले समान रेखीय समीकरण के हल, समुच्चय, सम्बन्ध, फलन,
सम्मिश्र संख्याएं तथा इसके प्रारम्भिक गुणधर्म,
सम्मिश्र संख्याओं का कार्तीय और ध्रुवीय निरूपण,
सम्मिश्र संख्याओं का वर्गमूल।
4. पृष्ठीय क्षेत्रफल और आयतन : 1. घन,
2. घनाभ,
3. शंकु,
4. बेलन और गोला,
5. ठोसीय रूपांतरण और आकार रूपांतरण की समस्या,
6. शंकु का छिन्नक।
5. त्रिकोणमिति : 1. कोण माप की पद्धतियां तथा कोण,
2. कोणों और चाप की लम्बाइयां का त्रिकोणमिति अनुपात,
3. त्रिकोणमिति फलन,
4. मिश्रित एकाधिक कोण,
5. त्रिकोणमितीय समीकरण का हल,
6. प्रतिलोम त्रिकोणमितीय फलन,
7. त्रिभुजों के गुणधर्म
6. कलन : 1. अवकलन,
2. सीमा, सांतत्यता, अवकलनीयता,
3. फलनों के बीजीय योगफल और अन्तर का अवकलन,
4. फलनों के गुणनफल का अवकलन,
5. अस्पष्ट फलन,
6. त्रिकोणमितीय फलन,
7. फलन आदि फलनों के अवकलन,
8. द्वितीय क्रम के अवकलन,
9. रोल और लांग्राज मध्यमान प्रमेय, अवकलन के अनुप्रयोग,
10. वर्धमान तथा ह्रासमान फलन,
11. स्पर्श रेखा और अभिलम्ब,
12. उच्चिष्ठ और निम्निष्ठ एक चर वाले फलनों के।
7. समाकलन : अनिश्चित समाकलन,
निश्चित समाकलन योगफल की सीमा के रूप निश्चित समाकलन,
निश्चित समाकलन के अनुप्रयोग,
वृत्तों के चाप, रेखा परवलय, दीर्घवृत तथा दो वक्रों के बीच का क्षेत्रफल सम्बन्धी समस्याएं |
8. निर्देशांक ज्यामिति :

 

1. द्विविम निर्देशांक ज्यामिति :- दो बिन्दुओं के बीच की दूरी, विभाजन सूत्र, त्रिभुज का क्षेत्रफल, बिंदुपथ सरल रेखा का समीकरण, सरल रेखा युग्म, वृत, परवलय, दीर्घवृत, अति परवलय तथा

● इन सभी की समीकरण, सामान्य गुणधर्म, स्पर्श रेखा, अभिलम्ब, स्पर्श जीवा, स्पर्श रेखा युग्म

2. त्रिविम निर्देशांक ज्यामिति :- निर्देशांक अक्ष और त्रिविम निर्देशांक में निर्देशांक समतल, निर्देशांक समतल पर एक बिन्दु, दो बिन्दुओं के बीच की दूरी, विभाजन सूत्र, दिक कोज्याए, दिक अनुपात, रेखा का कार्तिय और सदिश समीकरण समतलिय और विषमतलीय रेखाएँ, दो रेखाओं के बीच की न्यूनतम दूरी, एक समतल का कार्तिय और सदिश समीकरण, दो रेखाओं के मध्य कोण, दो समतल के मध्य कोण, एक रेखा और एक समतल के मध्य कोण, समतल की एक बिन्दु से दूरी ।
9. सांख्यिकी एवं प्रायिकता : माध्य, बहुलक, माध्यिका, चतुर्थक, दशमक, शतमक, विक्षेपण के मान (परास, चतुर्थक विचलन, माध्य विचलन, मानक विचलन) प्रायिकता, प्रायिकता के नियम, प्रायिकता के योग और गुणन प्रमेय, प्रतिबन्धात्मक प्रायिकता, यादृच्छिक चर और उसका प्रायिकता बंटन, बरनोली परीक्षण (स्वतंत्र ) और द्विपद बंटन।
10. सदिश : बिन्दु गुणनफल, क्रॉस गुणनफलन और गुणधर्म, अदिश त्रिकगुणनफल, सदिश त्रिक गुणनफल और सम्बन्धित समस्याएँ ।

पार्ट – द्वितीय
स्तर – स्नातक लेवल
अंक – 80

1. अमूर्त बीजगणित : समूह, सामान्य उपसमूह, क्रमचय ग्रुप, विभाग समूह, समाकारिता, तुल्य कारिता व प्रमेय, कैले और लाग्रांज प्रमेय, स्वाकारिता
2. कलन : आंशिक अवकलन, दो चरो के फलन हेतु उच्चिष्ठ एवं निम्ननिष्ठ, अनन्त स्पर्शिया, द्वि समाकलन एवं त्रिक समाकलन, बीटा एवं गामा फलन, माध्यमान प्रमेय ।
3. वास्तविक विश्लेषण : एक पूर्ण क्रमित क्षेत्र के रूप में वास्तविक संख्या, रैखिक समुच्चय, निम्न एवं उपरी परिबन्ध, सीमा बिन्दु, संवृत और विवृत समुच्चय, वास्तविक अनुक्रम, एक अनुक्रम की सीमा और अभिसरण, रीमान समाकलन, श्रेणी का अभिसरण, पूर्ण अभिसरण, फलनों के अनुक्रम और श्रेणी का एक समान अभिसरण
4. सदिश विश्लेषण : सदिश फलनों का अवकलन, प्रवणता, अपसरण और कुन्तल, सदिश सर्व समिकाऐं, गॉस, स्टोक और ग्रीन प्रमेय
5. अवकल समीकरण : प्रथम कोटी व प्रथम घात के साधारण अवकल समीकरण, प्रथम कोटी व उच्च घात के अवकल समीकरण, क्लैरो समीकरण, सामान्य और विचित्र हल, अचर गुणांकों के रेखिक अवकल समीकरण, समघातीय अवकल समीकरण, द्वितीय क्रम के अवकल समीकरण
6. स्थिति और गति विज्ञान : समतलीय बलों का संयोजन और वियोजन, बल के दिशाओं में घटक, संगामी बलों की साम्यावस्था, समान्तर बल व आघूर्ण, वेग और त्वरण, सरल रेखीय गति (अचर त्वरण के अधीन), गति के नियम, प्रक्षेप्य
7. रेखिक प्रोग्रामिंग : दो चरों के रेखीय प्रोग्रामिंग का ग्राफिय हल, अवमुख समुच्चय और गुणधर्म, सिम्पलेक्स विधि, नियतन समस्या, परिवहन समस्या
8. संख्यात्मक विश्लेषण एवं अन्तर समीकरण : समान या असमान अन्तराल के अन्तर्वेशन, पद अन्तराल, लाग्रांन्ज का अन्तर्वेशन सुत्र, रूंडन त्रुटि, संख्यात्मक अवकलन, संख्यात्मक समाकलन, न्यूटन कोट्स क्षेत्रकलन सूत्र, गाँस क्षेत्रकलन सूत्र, अपसरण, त्रुटि का आकलन, बीजीय एवं अबीजिय समीकरण, द्विविभाजन विधि, मिथ्या स्थिति विधि, पुनरावर्ति विधि, न्यूटन रेफसन विधि, अभिसरण, प्रथम और उच्च क्रम समघातीय रैखिक अंतर समीकरण, असमघातीय रैखिक अंतर समीकरण, पूरक फलन, विशिष्ट समाकल।

पार्ट-तृतीय – 40 अंक

गणित शिक्षण विधियां
1.       गणित का अर्थ एवं प्रकृति

2.      गणित शिक्षण के लक्ष्य और उद्देश्य

3.      गणित शिक्षण की विभिन्न प्रविधियां (विश्लेषण – सश्लेषण विधि, आगमन- निगमन विधि, हयूरिस्टिीक विधि, प्रायोजना विधि, प्रयोगशाला विधि)

4.      गणित शिक्षण के लिए विभिन्न प्रविधियों का प्रयोग मौखिक, लिखित, ड्रिल, असाइनमेंट, – पर्यवेक्षित अध्ययन और अभिक्रमित अनुदेशन ।

5.       गणित अधिगम हेतु रूचि जागृत करना और उसे बनाए रखना।

6.      योजना का महत्व और अर्थ, पाठ योजना, इकाई योजना, वार्षिक योजना, लघु पाठ योजना तैयार करना ।

7.       गणित में कम लागत के आशूरचित शिक्षण सहायक सामग्री, श्रव्य-दृश्य सामग्री तैयार करना ।

8.      विभिन्न विषयों और वास्तविक जीवन की स्थिति के लिए गणित सीखने का स्थानांतरण।

9.      गणित प्रयोगशाला की योजना और उपकरण।

10.  गणित शिक्षक शैक्षणिक और व्यावसायिक तैयारी।

11.    पाठ्यचर्या का सिद्धान्त और एक अच्छी पाठ्य पुस्तक के गुण ।

12.   पुनर्बलन प्राप्त करने की प्रक्रिया और संज्ञानात्मक, बोधात्मक एवं मनोक्रियात्मक विकास के संदर्भ में गणित में मूल्यांकन

13.   उपलब्धि परीक्षण और नैदानिक परीक्षण जैसे मूल्याकंन के लिए परीक्षणों की तैयारी और उपयोग

14.   माध्यमिक और उच्च माध्यमिक स्तरों पर पाठ्यक्रम के संबंध में नैदानिक, उपचारात्मक और संवर्धन कार्यक्रम ।

15.   प्रतिभाशाली और मंदबुद्धि बालकों के लिए गणित।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!